heart touching love shayari in hindi for girlfriend | heart touching emotional true love shayari

 



जिसके एक msg से मेरे चेहरे पर smile आती थी❤️

💔💔आज रोते रोते पूरा दिन गुजर गया इंतजार में



झूठी 🌷💔मोहब्बत वफ़ा के वादे साथ निभाने की कसमें इतना सब कुछ किया था सिर्फ मेरे साथ वक्त गुजारने को💔💔




हर एक💔💔 ने देखा मुझे अपनी नज़र से 

काश कोई तो मेरी नज़र से भी 💔देखता मुझे।




कभी कभी 💔💔💔मेरा दिल करता है कि 

बैठकर इतना रोऊं की रोते 💔रोते ही मर जाऊ




मोहब्बत में💔💔 दिखावे की दोस्ती न मिला

अगर गले नही मिलता तो हाथ💔 भी ना मिला



बहुत अजीब 💔💔है ये क़ुर्बतो  की दूरी भी

वो मेरे साथ है पर मुझे 💔💔कभी नही मिला




जिस दिन💔💔 बंद कर ली हमने हमने आँखे,

कई आँखों से उस दिन आंसू 💔💔बरसेंगे,

जो कहते है की💔💔 बहुत तंग करते है हम,

वही 💔💔हमरी एक सरारत को तरसेंगे,






न दिल💔💔 में बसाकर भुलाया करते,

न हसकर रुलाया💔💔 करते है,

कभी 💔💔महसूस करके देख लेना,

हम जैसे तोह दिल से💔 रिश्ते निभाया करते है,






लम्हा 💔💔लम्हा साँसे ख़त्म हो रही है|

जिंदगी मौत के पहलु💔💔 में सो रही है|

उस 💔💔बेवफा से न पूछो मेरी मौत की वजह 

वो तो जमाने को दिखने 💔💔को रो रही है




तेरी 💔💔धड़कन ही जिंदगी का हिस्सा है मेरा

तू जिंदगी का अहम् 💔💔हिस्सा है मेरा

मेरी 💔💔मोहब्बत तुझसे,सिर्फ लफ़्ज़ों की नहीं

तेरी रूह से रूह तक का 💔💔हिस्सा है मेरा




जिस 💔💔दिन बंद कर ली हमने आँखें

कई आँखों से उस दिन 💔💔आंसू बरसेंगे

जो 💔💔कहते है की बहुत तंग करते है हम

वही हमारी एक शरारत को💔💔 तरसेंगे





दर्द से💔💔 हाथ न मिलाते तो और का करते,

गम के आंसू न बहाते तो💔💔 और क्या करते,

उसने💔💔 मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,

हम खुद को न जलाते तो💔💔 और क्या करते,




हकीकत💔💔 जान लो जुदा होने से पहले,

मेरी सुन लो अपनी सुनाने 💔💔से पहले,

ये सोच 💔💔💔लेना भूलने से पहले,

बहुत रोई है ये आँखें मुस्कुराने💔💔 से पहले,



ये कैफ़ियत 💔💔है मेरी जान अब तुझे खो कर  कि हम ने ख़ुद को भी पाया नहीं💔💔 बहुत दिन से 




आब-ए-रवान-ए-कबीर 💔💔तेरे किनारे कोई  देख रहा है किसी और ज़माने 💔💔का ख़्वाब 




मिरे हबीब 💔💔मिरी मुस्कुराहटों पे न जा  ख़ुदा-गवाह मुझे आज भी💔💔 तिरा ग़म है 




इक सफ़र में 💔💔कोई दो बार नहीं लुट सकता  अब दोबारा तिरी चाहत नहीं💔💔 की जा सकती 



बेचैन इस💔💔 क़दर था कि सोया न रात भर  पलकों से लिख रहा था तिरा नाम💔💔 चांद पर 



आज इक और💔💔 बरस बीत गया उस के बगैर  जिस के होते हुए होते थे💔💔 ज़माने मेरे 





उम्र भर की 💔💔बात बिगड़ी इक ज़रा सी बात में एक लम्हा ज़िंदगी भर की कमाई💔💔 खा गया




देख कर 💔💔मुझे  अब आँखे तो भर 

आती है पर  वो नहीं दीखते। 💔💔💔💔



रूह बहुत है 💔💔उसके दरवाजे पर  दस्तक दे कर 

दर्द तब हवा जब उसने पूछा💔💔💔  कौन हो तुम। 



मोहब्बत की 💔💔आजतक बस दो ही  बाते अधूरी रही 

एक मैं तुझे बता नहीं पाया और 💔💔 दूसरी तुम समझ नहीं पाए। 




मुस्कान खो सी💔💔💔 गई है उनके बिना

और लोग 💔💔महफ़िल को हसाने की बात कर रहे हैं




हम तो बने 💔💔💔ही कांच के थे

आप तो बस 💔पत्थर का बहाना बन गए।




फ़ुर्सत मिले 💔💔तो कभी सोचना बैठ कर

किसी पागल ने, पागलों की तरह 💔💔प्यार किया था




दूर जाने से 💔💔पहले सोच लेना एक बार

हमसे ज़दा प्यार मिलना मुश्किल 💔💔है इस जहान में।





तू तो सीखा 💔💔गया मुझे बेवफ़ाई

तू भी तो मोहब्बत सीख 💔💔जाता।





मोहब्बत💔💔 क्या है वो तो नहीं बता पाए

पर अब अपनी नफ़रत ज़रुर 💔💔दिखाएंगे 




भूल 💔💔जाऊंगी तुझे पूरे दिल से

तू खुश रह ज़िंदगी में दुआ💔 है रब से।




मोहब्बत💔💔 के नाम पे बेवफ़ा निकला तू

दिल तोड़ने वाला गुनाहगार निकला तू।💔💔




नफ़रत 💔💔होती है अब उस लम्हे से

जिस लम्हे हम💔💔 तुझसे मिले थे




टूट💔💔 कर जोड़ने की बात करते हो

दूर जाकर वापस 💔💔आने की बात करते हो

भरोसा तो आपने तोड़ा था💔💔💔💔

🌷🌷अब मेरी मोहब्बत बदनाम करते हो।




कोई💔💔 पूछेगा तो सुबह का भूला कह देंगे

तुम आओ तो सही, हम शाम 💔को सवेरा कह देंगे




हमने💔💔 दिल में दर्द दबाए रखा

बस यु ही माहौल बनाए रखा💔💔💔




अच्छा💔💔 लगता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ 

जैसे कोई सुबह जुडी हो किसी 💔हसीन शाम के साथ



शायद 💔💔इश्क अब उतर रहा है सर से,

मुझे अलफ़ाज़ नहीं मिलते💔💔 शायरी के लिए




मोहब्बत 💔💔का शौक यहां किसे था.

तुम पास आते गए और 😀😀मोहब्बत होती गई




इश्क़ 💔💔गुनाह है तो गलती की हमने,

सजा जो भी हो मंजूर💔❤️ है हमे ,




नज़र 💔💔और नसीब का भी क्या इत्तेफाक है यारों,

नज़र उसे ही पसंद करती है 💔💔जो नसीब में नहीं होता 




तेरे💔💔 इश्क में इस तरह मैं नीलाम हो जाऊं !

आख़री हो तेरी बोली और💔💔 मैं तेरे नाम हो जाऊं





उस चेहरे 💔💔की मासूमियत मे इतना असर था

कि खरीद ली उसने इक 💔💔मुलाक़ात में ज़िन्दगी मेरी




हमें भी आज 💔💔ही करना था इंतिज़ार उस का  उसे भी आज ही 💔💔सब वादे भूल जाने थे 




इसी लिए 💔💔तो यहां अब भी अजनबी हूं मैं  तमाम लोग फ़रिश्ते हैं💔💔💔 आदमी हूं मैं 




हम-सफ़र💔💔 हो तो कोई अपना-सा  

चाँद के साथ चलोगे कब तक💔💔💔 




सच कहा💔💔 था किसी ने तन्हाई में जीना सीख लो 

मोहब्बत जितनी भी सच्ची हो 💔💔साथ छोड़ ही जाती है।



पता नही 💔💔अब किसका हो गया वो शख्श,

जो कभी मेरा होने का दावा 💔💔💔करता था..




तुम थे 💔💔तुम हो तुम ही रहोगे,

कुछ इस तरह मोहब्बत💔 है तुमसे..




नाराजगी💔💔 चाहे कितनी भी क्यो न हो तुमसे, 

तुम्हें छोड़ देने का ख्याल हम 💔💔आज भी नही रखते





अगर खोजूँ💔💔 तो कोई मुझे मिल ही जाएगा, 

लेकिन तुम्हारी तरह💔💔 मुझे कौन चाहेगा?


Post a Comment

0 Comments