bulati hai magar jaane ka nahi shayari


बुलाती है मगर जाने का नहीं 

ये दुनिया है इधर जाने का नहीं


मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर 

मगर हद से गुज़र जाने का नहीं


सितारे नोच कर ले जाऊंगा

में खाली हाथ घर जाने का नहीं


बवा फैली होई है हर तरफ 

अभी माहौल मर जाने का नहीं


वोह गर्दन नापता है नाप लेे

मगर ज़ालिम से डर जानें का नहीं





Bulati Hai Magar jaane ka nahi 

Ye duniya hai idhar jaane ka nhi


Mere bete Kisi Se Ishq kar

Magar had Se Guzar jaane ka nahin


Sitare noch kar le jaunga

Main Khali hath ghar jaane ka nahin


Baba faili Hui Hai Har taraf

Abhi mohal Mar jaane ka nahi


Woh gardan napta hai naap le

Mager zalim se dar jaane ka nhi



Post a Comment

0 Comments