allama iqbal famous poetry in urdu

allama iqbal famous poetry in urdu




कौन यह कहता है खुदा नजर नहीं आता
वही तो नजर आता है जब कुछ नजर नहीं आता


Kaun ye kehta hai, khuda nazar nahi aata
Wahi to nazar aata hai, jab kuch nazar nahi aata




देखे हैं हमने अहराम में लिपटे हुए इब्लीस
हमने कई बार मैं खाने में खुदा देखा है


Dekha hai hum ne ehraam mein lipte huwe iblees
Hum ne, kai baar maikhane mein, khuda dekha hai






ठिकाना कब्र है कुछ तो इबादत कर इकबाल
रीबायात है कि किसी के घर खाली हाथ नहीं जाते

Thikana qabar hai kuch to ibaadat kar Iqbal
Riwayat hai ke, kisi ke ghar khali hath nahi  jaate






लोग पत्थर मारने आए तो वह भी साथ थे इकबाल
जिनके गुनाह कभी हम अपने सर लिया करते थे


Log patthar maarne aaye to wo bhi saath the Iqbal
Jin ke gunah kabhi hum apne sar liye karte the







दिल में खुदा का होना लाजिम है इकबाल
सजदों में पड़े रहने से जन्नत नहीं मिलती


Dil mein khuda ka hona laazim hai Iqbal
Sajdon mein pade rehne se Jannat nahi milti






खामोश ए दिल भारी महफिल में चिल्लाना अच्छा नहीं होता
 अदब पहला करीना है मोहब्बत के करीनो में


Khamosh ae dil! Bhari mehfil mein chillana nahi accha
Adab pehla qareena hai, mohabbat ke qareenon mein





मुकाम-ए-अक्ल से आसान गुजर गया इकबाल
मुकाम-ए-शौक में खोया गया वो फरजाना

Muqaam-e-aqal se aasan guzar gaya Iqbal
Muqaam-e-shauq mein khoya gaya wo farzaana 







कोई इबादत की चाह में रोया
कोई इबादत की रहा में रोया
अजीब है यह नमाज ए मोहब्बत के सिलसिले इकबाल
कोई कजा करके रोया कोई अदा करके रोया


Koi ibaadat ki chah mein roya,
koi ibaadat ki raah mein roya
Ajeeb hai ye namaaz-e-mohabbat ki silsile Iqbal,
Koi khaza kar ke roya, koi ada kar ke roya






कितनी अजीब है गुनाहों की जुस्तजू इकबाल
नमाज भी जल्दी में पड़ता है फिर से गुनाह करने के लिए


Kitni ajeeb hai gunaahon ki justaju Iqbal
Namaaz bhi jaldi mein padte hai phir se gunah karne ke liye






दबा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर
मैं चल ना सका दुनिया में खताओं को छोड़कर


Dawa ki talaash mein raha, dua ko chod kar
Main chal na saka duniya mein, khataon ko chod kar





मुझे रोकेगा क्या तू ए नाखुदा ग्रक होने से
किस दिन को डूबना है डूब जाते हैं सफिनो में

Mujhe rokega kya tu ae nakhuda,  gharq  hone se
Ki jinko doobna hai, doop jaate hain safinon  mein






ना कलाम याद आता है ना दिल लगता है नमाजो में इकबाल
काफिर बना दिया है लोगों को 2 दिन की मोहब्बत ने


Na kalma yaad aata hai na dil lagta hai namaazon mein Iqbal
Kafir bana diya hai logon ko, do din ki mohabbat ne







माना कि तेरी दीद के काबिल नहीं हूं मैं
तू मेरा शौक देख मेरा इंतजार देख


Mana ki teri deed  ke qabil nahi hoon main
Tu mera shauk dekh, mera intezaar dekh






दिल की इमारतों में कहीं बंदगी नहीं
पत्थरों की मस्जिदों में खुदा ढूंढते हैं लोग

Dil ki imaaraton mein kahin bandagi nahi
Patther ki masjidon mein khuda dhunte hai log






मुलाकाते उरूज पर थी तो
जवाब-ए-अजान तक ना दिया इकबाल
सनम जो रूठा है तो आज मौजन बन बैठे हैं


Mulaaqhatein urooj par thein to jawab-e-azaan tak na diya Iqbal
Sanam jo rootha hai to aaj mauzan bane baithe hain






क्यों मिन्नतें मांगता है औरों के दरबार से इकबाल
वह कौन सा काम है जो होता नहीं तेरे परवरदिगार से


Kyun minnatein maangta hai auron ke darbaar se Iqbaal
Wo kaun sa kaam hai, jo hota nahi tere parwardigaar se






जमीर जाग ही जाता है अगर जिंदा हो इकबाल
कभी गुनाह से पहले तो कभी गुनाह के बाद


Zameer jag hi jata hai, agar zinda ho Iqbal
Kabhi gunah se pehle, to kabhi gunah ke baad





एक मुद्दत के बाद हमने यह जाना ए खुदा
इश्क तेरी जात से सच्चा है बाकी सब अफसाने


Aik muddat ke baad humne ye jaana ae khuda
Ishq teri zaat se saccha hai, baaqi sab afsaaney






मंजिल से आगे बढ़कर मंजिल तलाश कर
मिल जाए तुझको दरिया तो समंदर तलाश कर


Manzil se aage badh kar manzil talaash kar
Mil jaaye tujh ko darya to samandar talaash kar






 हर शीशा टूट जाता है पत्थर की चोट से
पत्थर ही टूट जाए वह शीशा तलाश कर


Har sheesha toot jaata hai, patthar ki chot se
Patthar hi toot jaaye wo sheesha talaash kar





सजदो से तेरा क्या हुआ सदियां गुजर गई
दुनिया तेरी बदल दे वोह सजदा तलाश कर


Sajdon se tera kya huwa, sadiyan guzar gayein
Duniya teri badal de wo sajda talaash ka





तस्कीन ना हो जिसमें वह राज बदल डालो
जो राज ना रख पाए वोहत हमराज बदल डालो


Taskeen  na ho jis mein, wo raaz badal daalo
Jo raaz na rakh paaye, humraaz badal daalo






हमने भी सुनी होगी बड़ी आम कहावत है
अंजाम का हो खतरा आगाज बदल डालो


Tum ne bhi suni hogi, badi aam kahaawat hai
Anjaam ka ho khatra, aaghaaz  badal daalo





दुश्मन के इरादों को है जाहिर अगर करना
तुम खेल वहीं खेलो अंदाज बदल डालो


Dushman ke iraadon ko hain zaahir agar karna
Tum khel wahi khelo, andaaz badal daalo







ए दोस्त करो हिम्मत कुछ दूर सवेरा है
अगर चाहते हो मंजिल तो परवाज़ बदल डालो

Aye dost karo himmat kuch door sawera hai
Agar chahte ho mazil, to parwaaz (udaan) badal dalo







हैरान हूं मैं अपनी हसरतों पे इकबाल
हर चीज खुदा से मांग ली मगर खुदा को छोड़कर

Hairaan hoon main, apni hasraton pe Iqbal
Har cheez khuda se maang li, magar khuda ko chod kar






अपने मतलब के अलावा कौन किसको पूछता है
शजर जब सूख जाए तो परिंदे भी बसेरा नहीं करते


Apne matlab ke alawa kaun kisko poochta hai
Shajar jab sookh jaye, to parindey bhi basera nahi karte






ईमान तेरा लूट गया रहजान के हाथों से
ईमान तेरा बचाले वह रहकर तलाश कर


Imaan tera lut gaya rehzan (robber) ke haathon se
Imaan tera bacha le, wo rahbar (rehnuma) talaash kar







करे सब्र ऊंट पे अपने गुलाम को
पैदल ही खुद चले वोह आका तलाश कर


Kare sawar oont (camel) pe apne gulaam ko
Paidal hi khud chale, wo aaqa talaash kar





बात सजदे की नहीं खालिस-ए-निय्यत की होती है इकबाल
अक्सर लोग खाली हाथ लौट आते हैं हर नमाज के बाद


Baat sajdah ki nahi, khalis-e-niyyat ki hoti hai Iqbal
Aksar log khali haath laut aate hain har namaaz ke baad





दुनिया की महफिलों से घबरा गया हूं या रब
क्या लुफ्त अंजुमन का जब दिल ही बुज गया हूं


Duniya ke mehfilon se ghabra gaya hoon yaa rab
Kya luft anjuman ka, jab dil hi bujh gaya ho





गिरते हैं सजदो में हम अपने ही हसरतों के खातिर इकबाल
अगर गिरते सिर्फ इश्क़-ए-खुदा मैं तो कोई हसरत अधूरी ना रहती 


Girte hain sajdon mein hum, apni hi hasraton ki khaatir Iqbal
Agar girte sirf ishq-e-khuda mein, to koi hasrat adhuri na rehti







हर वक्त का हंसना तुझे बर्बाद ना कर दे
तन्हाई के लम्हों में रो भी लिया कर


Har waqt ka hasna tujhe barbaad na kar de
Tanhaayi ke lamhon mein roa bhi lia kar





मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना
हिंदी है हम वतन है हिंदुस्तान हमारा


Mazhab nahi sikhata aapas mein bair rakhna,
Hindi hain hum, watan hai hindustaan humara







हुस्ने-ए-किरदार से नूर-ए-मुजस्सम हो जाए
की इब्लीस भी तुझे देखें तो मुसलमान हो जाए


Husn-e-kirdaar se noor-e-mujassam  hojaye
Ki ibliees bhi tujhe dekhe to musalmaan hojaye






तेरे आजाद बंदों की ना यह दुनिया ना वो दुनिया
यहां मरने की पाबंदी वहां जीने की पाबंदी

Tere azaad bando ki na ye duniya, na wo duniya
Yahan marne ki pabandi, waha jeene ki pabandi


Post a comment

0 Comments