Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

ad

aala hazrat shayari in hindi

aala hazrat shayari in hindi अल्लाह क्या जहन्नम अब भी ना सर्द होगा रो रो के मुस्तफा ने दरिया बहा दिए है

aala hazrat shayari in hindi




अल्लाह क्या जहन्नम अब भी ना सर्द होगा
रो रो के मुस्तफा ने दरिया बहा दिए है


Allah Kiya jahannam ab bhi na sard Hoga
Ro ro ke Mustafa ne Darya wah diye hai






उस बेवफा से कर के वफा मर मिटा रज़ा
की किस्सा ए ताविल का ये इख्तीसर है


us bevafā se kar ke vafā mar-miTā 'razā'
ik qissa-e-tavīl kā ye iḳhtisār hai







जमीनो जमा तुम्हारे लिए
मकीनो मका तुम्हारे लिए


Jamino JAMA tumhare liye
Malini mama tumhare liye






रजा नफ्स दुश्मन है दम में ना आना
कहां तुमने देखे हैं चंद्राने बाले


Raza nafs dusman ha dum me na aana
Kaha Tumne dekhe hai chandirane bale




आने दो या डुबो दो अब तो तुम्हारी जानिब
कश्ती तुम ही पर छोड़ी लंगर लुटा दिए है


Aane do ya dubo do ab to tumhari Habib
Kashti tumhi pe chodi Langer Luta diye hai





ए इश्क तेरे सदके जलने से छूटे सस्ते
जो आग बुझा देगी वोह आग लगाई है



Ae ishq tere sadke jalne se chute waste
Jo aag bujha degi Woh aag lagai hai



उस बेवफा से कर के वफ़ा मर मिटा रज़ा
इक किस्सा तविल का ये इख्तिसर है




us bevafā se kar ke vafā mar-miTā 'razā'
ik qissa-e-tavīl kā ye iḳhtisār hai





उनके सितम भी कह नहीं सकते किसी से हम
घूट घूट के मर रहे है अजब बेबसी से हम


un ke sitam bhī kah nahīñ sakte kisī se ham
ghuT ghuT ke mar rahe haiñ ajab bebasī se ham






उस गली का गदा हूं मै जिस में
मांगते ताजदार फिरते है


Us gali ka gada hu maiñ jis mein,
Maangte taajdar phirte  hain.






लेकिन रज़ा ने खत्म ए सुखन इस पर कर दिया
खलक का बंदा खलक का आका कहूं तुझे

Lekin Raza ne khatm e sukhan iss pe kar diya,
Khalaq ka banda khalq ka Aaqa kahu tuje





2 comments

Please do not spam